भारत में नई बाइक और कारें

2020 तक टोयोटा भारत में लॉन्च करेगी कई इलैक्ट्रिक वाहन, चलते हैं बिना पेट्रोल-डीजल के

टोयोटा 2020 तक भारत में इलैक्ट्रिक वाहनों की रेन्ज लॉन्च करने वाली है. 2020-से 2030 तक कंपनी 4 तरह के इलैक्ट्रिक वाहन लाएगी और टोयोटा की कोई भी कार बिना इलैक्ट्रिक ऑप्शन के उपलब्ध नहीं होगी. कंपनी ने कहा है कि वह लंबी दूरी तय करने वाली बैटरी भी बनाने जा रही है. टैप कर पढ़ें पूरी खबर.

फोटो देखें
2020-से 2030 तक कंपनी 4 तरह के इलैक्ट्रिक वाहन लाएगी

जापान की ऑटोमेकर कंपनी टोयोटा भारत में बहुत बड़े तबके की पसंदीदा कार मैन्युफैक्चर बनी हुई है. टोयोटा अबतक भारत और पूरी दुनिया में डीजल-पेट्रोल से चलने वाली कारें बेचती रही है, लेकिन कंपनी अब 2020 तक चीन से शुरू करते हुए भारत और यूनाइटेड स्टेट्स के साथ यूरोप में इलैक्ट्रिक कारें बेचने का प्लान बना चुकी है. टोयोटा का कहना है कि उनका लक्ष्य 10 लाख बिना डीजल-पेट्रोल के चलने वाले वाहनों के साथ 55 लाख इलैक्ट्रिक वाहन बनाने का है. कंपनी 2030 तक दुनिया के सामने फ्यूल सेल इलैक्ट्रिक व्हीकल भी पेश करने वाली है. टोयोटा की मानें तो कंपनी 2020-2030 के बीच 4 तरह के इलैक्ट्रिक वाहन ग्राहकों के लिए उपलब्ध कराएगी.

ये भी पढ़ें : सलमान खान चलाएंगे दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर ई-साइकल! जानें इसपर क्या बोले गडकरी
 
टोयोटा 2020 की शुरुआत में दुनिया के सामने 10 से ज्यादा ऐसे वाहन पेश करेगी जो बैटरी से चलने वाले होंगे. कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि सबसे पहले इन वाहनों को चीन में लॉन्च किया जाएगा और उसके बाद टोयोटा जल्द ही इन्हें जापान, भारत के साथ यूएस और यूरोप में भी सप्लाई करेगी. फ्यूल सेल इलैक्ट्रिक व्हीकल को कंपनी पैसेंजर और कमर्शियल दोनों लाइन-अप में पेश करेगी. कंपनी का यह भी कहना है कि 2025 तक टोयोटा और लैक्सस की सभी कारें इलैक्ट्रिक ऑप्शन में उपलब्ध होंगी. इसका सीधा मतलब हुआ कि कुछ ही सालों बाद टोयोटा की कोई भी कार बिना इलैक्ट्रिक वर्ज़न के नहीं बनेगी.

ये भी पढ़ें : बूंद भर पेट्रोल-डीजल नहीं पीती टाटा की ये इलैक्ट्रिक कार, जानें किसके लिए बनाई गई टिगोर EV
 
टोयोटा ने पहले ही सुज़ुकी मोटर्स के साथ मिलकर भारत में 2020 तक इलेक्ट्रिक वाहन लॉन्च करने की साझेदारी कर ली है. इसमें साझेदार कंपनी सुज़ुकी ने कहा है कि इलैक्ट्रिक वाहनों की भारत में बढ़ती लोकप्रियता को लेकर हम पूरा तुलनात्मक अध्ययन करेंगे. सुज़ुकी ने भी घोषणा की है कि कंपनी गुजरात के प्लांट में अपने पार्टनर्स के साथ मिलकर लीथियम-इऑन बैटरी बनाएगी. इस बैटरी को सिर्फ मारुति सुज़ुकी की इलैक्ट्रिक कारों में लगाया जाएगा. दोनों कंपनियों ने इस बयान को एस वक्त जारी किया है जब भारत सरकार 2030 तक भारत में सभी वाहनों को इलैक्ट्रिक करने पर बहुत ज़ोर दे रही है. टोयोटा ने यह भी बताया कि वह काफी लंबे समय तक चलने वाली बैटरी पर काम कर रही है और 2020 की शुरुआत में कंपनी इस तकनीक को व्यापार में लाएगी.
 
नोटः इस खबर को एनडीटीवी स्टाफ द्वारा एडिट नहीं किया गया है, यह सिंडिकेट फीड द्वारा बनी है.
0 Comments

 
Advertisement

लेटेस्ट न्यूज़

Be the first one to comment
Thanks for the comments.