भारत में नई बाइक और कारें

जीप बनाने वाली फीएट क्रिस्लर 2022 तक बंद करेगी डीजल इंजन, जानें क्या है इसकी वजह

दी फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि फीएट क्रिसलर ऑटोमोबाइल (FCA) साल 2022 तक अपने सभी वाहनों से डीजल इंजन को हटाने वाली है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी के ऐसा करने का सबसे बड़ा कारण डीजल इंजन की मांग में लगातार होती गिरावट को माना जा रहा है. टैप कर जानें और क्या है वजह?

फोटो देखें
इस रिपोर्ट में सीधे तैर पर एफसीए को कोट नहीं किया है

दी फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि फीएट क्रिसलर ऑटोमोबाइल -एफसीए- साल 2022 तक अपने सभी वाहनों से डीजल इंजन को हटाने वाली है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी के ऐसा करने का सबसे बड़ा कारण डीजल इंजन की मांग में लगातार होती गिरावट को माना जा रहा है. जहां इस रिपोर्ट में सीधे तैर पर एफसीए को कोट नहीं किया है जिससे इस ओर इशारा मिलता है कि ये कंपनी का अंतरिक फैसला हो सकता है जिसमें कंपनी 1 जून 2018 से 4 साल का प्लान शुरू करने वाली है जिसमें डीजल वाहनों बंद करने का काम किया जाएगा. इस ग्रुप में फीएट, अल्फा रोमिओ, फरारी, लांसिआ, मसेराटी, क्रिस्लर, डॉज, रेम और जीप जैसे शानदार ब्रांड्स शामिल हैं. 2015 में हुए फोक्सवेगन डीजल स्कैंडल के बाद से डीजल वाहनों में गिरावट आनी शुरू हुई है जो अब भी ऑटोमोबाइल जगत के लिए संकट बना हुआ है.

ये भी पढ़ें : बिना स्टीकर्स के सामने आई जीप की अपकमिंग कार कम्पस ट्रेलहॉक, जानें कितनी दमदार है SUV

फीएट क्रिसलर ऑटोमोबाइल का यह फैसला इसी स्कैंडल का परिणाम है और कुछ बाज़ारों में डीजल इंजन कारों को सीधे तौर पर नकारा जा रहा है. जिन देशों में डीजल की खतप ज़्यादा है वहां भी अब सरकारी फैसले कार कंपनियों को दोबारा पेट्रोल की ओर बढ़ाने के लिए नीतियां बना रही हैं. टोयोटा ने भी घोषणा की है कि अब कंपनी डीजल इंजन के उत्पादन पर बहुत ज़्यादा केंद्रित नहीं होगी. पिछले हफ्ते फोक्सवेगन ग्रुप की कंपनी पॉर्श ने भी डीजल कारों से पूरी तरह किनारा करने की बात कही है. डीजल मॉडल कारों की लगातार घटती डिमांड से कई कंपनियों को भारी नुकसान भी उठाना पड़ रहा है और बाकी कंपनियों ने इस घाटे से बचते हुए और भविष्य के लिए तैयारी शुरू करते हुए वाहनों के इलैक्ट्रिकफिकेशन पर काफी पैसा खर्च किया है.

ये भी पढ़ें : ऑटो एक्सपो 2018: टाटा ने पेश की इलैक्ट्रिक स्पोर्ट कार रेसिमो, जानें कितनी दमदार है ये 2 सीटर

0 Comments

एफसीए के सभी ब्रांड्स जहां कुछ ही सालों में डीजल इंजन से किनारा कर लेंगे वहीं इसके वाणिज्यि वाहन या कहें तो कमर्शियल वाहनों को डीजल इंजन के साथ मुहैया कराया जाएगा. भारत में डीजल इंजन के मामले में फीएट का वर्चस्व है और कंपनी फीएट और जीप कार मॉडलों के अलावा टाटा, जनरल मोटर्स और मारुति सुज़ुकी को मल्टीजैट इंजन मुहैया कराती है. देश में डीजल इंजन बंद करना पॉलिटिक्स का हिस्सा माना जा सकता है क्योंकि भारतीय ऑटोमोबाइल बाज़ार में डीजल वाहनों की मांग में इतनी गिरावट नहीं देखी गई है. हमने एफसीए इंडिया ने इस मामले में जानकारी लेनी चाही लेकिन कंपनी की ओर से इसका अबतक कोई जवाब नहीं मिला है.

Be the first one to comment
Thanks for the comments.