भारत में नई बाइक और कारें

BS6 सर्टिफिकेट पाने वाली भारत की पहली टू-व्हीलर निर्माता कंपनी बनी हीरो मोटोकॉर्प

BS VI इंजन का टेस्ट स्प्लैंडर आईस्मार्ट के साथ किया गया जिसके बाद हीरो को इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (ICAT) से टाइप अप्रूवल मिल गया है.

फोटो देखें
कंपनी स्प्लैंडर आईस्मार्ट के साथ अपना पहला BS VI इंजन पेश करेगी

भारत में 1 अप्रैल 2020 से भारत स्टेज 6 यानी BS VI नियम लागू कर दिया जाएगा जिसे दिमाग में रखते हुए फोर व्हीलर निर्माता कंपनियों ने पहले ही BS VI एमिशन वाले वाहन पेश करना शुरू कर दिया है. इसे लेकर अब दो पहिया वाहन निर्माता भी हरकत में आ गए हैं और हीरो मोटोकॉर्प देश की पहली कंपनी बन गई है जो बाज़ार में BS VI इंजन वाली बाइक लॉन्च करेगी. कंपनी स्प्लैंडर आईस्मार्ट के साथ अपना पहला BS VI इंजन पेश करेगी. BS VI इंजन का टेस्ट स्प्लैंडर आईस्मार्ट के साथ किया गया जिसके बाद हीरो को इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (ICAT) से टाइप अप्रूवल मिल गया है. BS VI इंजन वाली हीरो स्प्लैंडर आईस्मार्ट हीरो द्वारा पूरी तरह डिज़ाइन और डेवेलप की गई है और यह कार कंपनी के जयपुर स्थित सेंटर फॉर इनोवेशन एंड टेक्नोलॉजी में किया गया है.

65h7mh1kहीरो को इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (ICAT) से टाइप अप्रूवल मिल गया है

ICAT के डायरेक्टर दिनेश त्यागी ने कहा कि, “भारत में दो पहिया वाहनों के लिए BS VI तकनीक लाने वाली पहली कंपनी बनने पर हम हीरो मोटोकॉर्प को बधाई देते हैं. हमने कंपनी की स्प्लैंडर आईस्मार्ट के लिए टाइप अप्रूवल सर्टिफिकेट दे दिया है जिसे पूरी तरह से हीरो मोटोकॉर्प ने डेवेलप और मैन्युफैक्चर किया है. पिछले साल ICAT ने BS VI नॉर्म्स के हिसाब से हेवी कमर्शियल वाहन सैगमेंट के लिए देश का पहला अप्रूवल जारी किया था. BS VI एमिशन स्टैंडर्ड भविष्य के लिए बहुत कारगर हैं और फिलहाल उपलब्ध कराए जा रहे वाहनों से ज़्यादा बेहतर एमिशन वाले वाहन आगे उपलब्ध कराए जाएंगे.”

ये भी पढ़ें : हीरो माइस्ट्रो ऐज 125 और प्लेज़र 2019 भारत में लॉन्च, शुरुआती कीमत ₹ 47,300

0 Comments

अगले एक साल में हीरो मोटोकॉर्प अपने वाहनों को BS VI एमिशन नियमों के अनुसार ढालेगी और इसकी तकनीक में भी ज़रूरी बदलाव किए जाएंगे. वाहन निर्माता कंपनियों को BS VI अप्रूवल सर्टिफिकेट पाने के लिए वाहन का प्रोटोटाइप बनाना होता है और उसकी टेस्टिंग करनी होती है जिसके बाद ICAT, ARAI और GSRC जैसी सरकारी एजेंसियां वाहन को सर्टिफिकेट देती हैं.

Be the first one to comment
Thanks for the comments.