भारत में नई बाइक और कारें

रॉन्ग साइड चलाते हैं कार तो अगली ऐसा करने से पहले सोचें लें, टायारों की हो सकती है दुर्गति

पुणे में ऐसे ही ड्राइवरों की अकल ठिकाने लाने के लिए सड़कों पर ऐसा कुछ लगाया गया है जो नाम पर खरा उतरता है. टैप कर जानें कैसे काम करते हैं टायर किलर?

फोटो देखें
नियमों का उल्लंघन करने वाले ऐसे ड्राइवरों पर लगाम कसने का बंदोबस्त किया जा चुका है

बायपास पर वाहन चलाते समय या फिर लंबे यू-टर्न से बचने के लिए अमूमन लोग कुछ दूरी तक गलत या विपरीत दिशा में वाहन चलाते हैं. इसे ऐसे चालकों को लिए वार्निंग समझिए जो पुणे, बेंगलुरु, चेन्नई और अहमदाबाद या फिर नेशनल हाइवे पर वाहन चलाते हैं. आपने भी ऐसे कई बेवकूफ ड्राइवारों को देखा होगा जो सभी वाहनों से विपरीत दिशा में कार लेकर आपकी ओर बढ़ रहे होते हैं, ऐसा करना हर वक्त बेहद खतरनाक है चाहे वह दिन हो या रात हो, बारिश का समय हो या कोहरे का. लेकिन अब नियमों का उल्लंघन करने वाले ऐसे ड्राइवरों पर लगाम कसने का बंदोबस्त किया जा चुका है. पुणे में ऐसे ही ड्राइवरों की अकल ठिकाने लाने के लिए सड़कों पर ऐसा कुछ लगाया गया है जो अपने नाम पर एकदम खरा उतरता है... टायर किलर.

driving wrong side road
टायर किलर स्पीड ब्रेकर नुमा यंत्र है जिससे सही दिशा में गुज़रने पर कार के टायर पर असर नहीं होता

टायर किलर स्पीड ब्रेकर नुमा ऐसा यंत्र है जिससे सही दिशा में गुज़रने पर कार के टायर पर कोई असर नहीं होता. लेकिन जब वाहन विपरीत दिशा या रॉन्ग साइड चलाया जा रहा हो तब इसके उूपर से गुज़रने पर आपकी कार या बाइक के टायरों का बुरा हाल होना निश्चित है. फोटोज़ पर नज़र डालते ही आपको यह तो समझ में आ ही गया होगा कि ये स्पीड ब्रेकर जैसे दिखने वाले टायर किलर्स किस तरह काम करते होंगे. टायर किलर का एक भाग कार के टायर को सपोर्ट देने के लिए रैम्प जैसा बनाया गया है, वहीं इसका दूसरा सिरा नुकीला है जिससे रॉन्ग साइड से आ रहे वाहन के टायरों को काफी नुकसान पहुंचने वाला है.

ये भी पढ़ें : शहरी इलाकों में अब 70 किमी/घंटा की रफ्तार से कार चलाना लीगल, मंत्रालय ने बढ़ाई गति सीमा

0 Comments

इन टायर किलर्स के उूपर से रॉन्ग साइड वाहन गुज़ारने के बाद आपकी जेप पर काफी सारा भार आ सकता है. टायर किलर टायर को सिर्फ नुकसान ही नहीं पहुंचाता, बल्की कार के टायरों में इसने सारे कट मारता है कि इसे बदलने के अलावा कोई बिकल्प नहीं बचता और टायर दोबारा इस्तेमाल करने लायक नहीं रह जाता. ऐसे ड्राइवरों से निजात पाने के लिए पुणे में सटीक कदम उठाया गया है और हम इस फैसले का समर्थन करते हैं. हमारा मानना है कि ये उन ड्राइवरों के लिए चुनौती नहीं बल्की सबक बनकर उनके दिमाग में बै जाएगा. सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन इसीलिए भी ज़रूरी है क्योंकि ये न सिर्फ आपकी जान सुरक्षित रखते हैं, दूसरों की जान भी बचाते हैं.

Be the first one to comment
Thanks for the comments.